Welcome Guest
Home > Navgraha Havan Mantra

The scope of Rudraksham Free Astro help section is limited up to the extent of recommendation of Rudraksha and gemstones. It doesn't cover any future predictions. For in-depth predictions please use our paid services. More »

Accept All:
Official PayPal Seal

Navgraha Havan Mantra

नवगृह हवन मंत्र

सूर्य देवता का हवन - गोघृत - शाकल या मदार या आक लकड़ी

दिशा पूर्व, मुद्रा हंसी, संख्या ९ या १०८ बार

सत नमो आदेश | गुरूजी को आदेश | ॐ गुरूजी | सुन बा योग मुल कहे बारी बार | सतगुरु शब्द का सहज विचार || ॐ आदित्य खोजो आवागमन घट में राखो दृढ़ करो मन | पवन जो खोजो दसवें द्वार | तब गुण पावे आदित्य देवा || आदित्य गृह जाति का क्षत्रिय | रक्त रंजीत कश्यप पंथ || कलींग देश स्थापना थाप लो | लो पूजा करो सूर्य नारायण की || सत फुरे सत वाचा फुरे श्री नाथ जी के सिंहासन ऊपर पान फूल की पूजा चढ़े | हमारे आसन पर ऋद्धी सिद्धि धरै, भण्डार भरे ७ वार, २७ नक्षत्र, ९ गृह, १२ राशि, १५ तिथि | सोम - मंगल शुक्र शनि || बुध - गुरु राहु - केतु सुख करै, दुःख हरै | खाली वाचा कभी ना पड़े || ॐ सूर्य मंत्र गायत्री जाप | रक्षा करे श्री शम्भुजती गुरु गोरखनाथ | नमो नमः स्वाहा |


सोमदेव हवन

हवन सामग्री - गौघृत तथा पलाश की लकड़ी

दिशा - पूर्व, मुद्रा - हंसी, संख्या - ९ बार या १०८ बार

ॐ गुरूजी, सोमदेव मन धरी बा शून्य | निर्मल काया पाप ना पुण्य || शशी - हर बरसे अम्बर झरे | सोमदेव गुण येता करें | सोमदेव जाति का माली | शुक्ली वर्णी गोत्र अत्री | | ओं जमुना तीर स्थापना थाप लो | कान्हरे पुष्प शिव शंकर की पूजा करो | सत फुरै सत वाचा फुरै श्री नाथजी के सिंहासन ऊपर पान फूल की पूजा चढ़ै | हमारे आसन पर ऋद्धी सिद्धि धरै | भण्डार भरै | ७ वार, २७ नक्षत्र, ९ गृह, १२ राशि, १५ तिथि | मंगल रवि शुक्र शनि | बुध गुरु राहु केतु सुख करै दु:ख हरै खाली वाचा कभी ना पड़ै | ॐ सोम मंत्र गायत्री जाप रक्षा करे श्री शम्भुजती गुरु गोरक्षनाथ नमो नमः स्वाहा |


मंगलदेव हवन

हवन सामग्री - गौघृत तथा खैर की लकड़ी

दिशा - पूर्व, मुद्रा - हंसी, संख्या - ९ बार या १०८ बार

ॐ गुरूजी मंगल विषय माया छोड़े | जन्म - मरण संशय हरै || चंद - सूर्य दो सम करै | जन्म - मरण का काल | एता गुण पावो मंगल ग्रह || मंगल ग्रह जाति का सोनी | रक्त रंजित गोत्र भरद्वाजी || अवंतिका क्षेत्र स्थापना थाप लो | ले पूजा करो नवदुर्गा भवानी की || सत फुरै सत वाचा फुरै श्री नाथजी के सिंहासन ऊपर पान फूल की पूजा चढ़ै | हमारे आसन पर ऋद्धी सिद्धि धरै, भण्डार भरै | ७ वार, २७ नक्षत्र, ९ गृह, १२ राशि, १५ तिथि | सोम रवि शुक्र शनि | बुध गुरु राहु केतु सुख करै दु:ख हरै | खाली वाचा कभी ना पड़ै | ॐ मंगल मंत्र गायत्री जाप | रक्षा करे श्री शम्भुजती गुरु गोरक्षनाथ || नमो नमः स्वाहा |


बुधग्रह हवन

हवन सामग्री - गौघृत तथा अपामार्ग की लकड़ी

दिशा - पूर्व, मुद्रा - हंसी, संख्या - ९ बार या १०८ बार

ॐ गुरूजी बुध ग्रह सत् गुरु जी दिनी बुद्धि | विवरो काया पावो सिद्धि || शिव धीरज धरे | शक्ति उन्मनी नीर चढ़ै | एता गुण बुध ग्रह करै | बुध ग्रह जाति का बनिया || हरित हर गोत्र अत्रेय | मगधदेश स्थापना थाप लो || ले पूजा गणेश जी की करै | सत फुरै सत वाचा फुरै | श्री नाथजी के सिंहासन ऊपर पान फूल की पूजा चढ़ै | हमारे आसन पर ऋद्धी सिद्धि धरै, भण्डार भरै | ७ वार, २७ नक्षत्र, ९ गृह, १२ राशि, १५ तिथि | सोम रवि शुक्र शनि मंगल गुरु राहु केतु सुख करै दु:ख हरै | खाली वाचा कभी ना पड़ै | ॐ बुध मंत्र गायत्री जाप || रक्षा करे श्री शम्भुजती गुरु गोरक्षनाथ || नमो नमः स्वाहा |


(गुरु) बृहस्पति हवन

हवन सामग्री - गौघृत तथा पीपल की लकड़ी

दिशा - पूर्व, मुद्रा - हंसी, संख्या - ९ बार या १०८ बार

ॐ गुरूजी, बृहस्पति विषयी मन जो धरो | पांचों इन्द्रिय निग्रह करो | | त्रिकुटी भई पवना द्वार | एता गुण बृहस्पति देव || बृहस्पति जाति का ब्राह्मण | पित पीला अंगिरस गोत्र || सिन्धु देश स्थापना थाप लो | लो पूजा श्री लक्ष्मी नारायण की करो || सत फुरै सत वाचा फुरै | श्री नाथजी के सिंहासन ऊपर पान फूल की पूजा चढ़ै | हमारे आसन पर ऋद्धी सिद्धि धरै, भण्डार भरै | ७ वार, २७ नक्षत्र, ९ गृह, १२ राशि, १५ तिथि | सोम रवि शुक्र शनि | मंगल बुध राहु केतु सुख करै दु:ख हरै | खाली वाचा कभी ना पड़ै | ॐ गुरु मंत्र गायत्री जाप || रक्षा करे श्री शम्भुजती गुरु गोरक्षनाथ || नमो नमः स्वाहा |


शुक्रदेवता हवन

हवन सामग्री - गौघृत तथा गुलर की लकड़ी

दिशा - पूर्व, मुद्रा - हंसी, संख्या - ९ बार या १०८ बार

ॐ गुरूजी शुक्रदेव शोधे सकल शरीर | कहा बरसे अमृत कहा बरसे नीर || नव नाडी बहात्तर कोटा पवन चढ़ै | एता गुण शुक्रदेव करै || शुक्र जाति का सय्यद | शुक्ल वर्ण गोत्र भार्गव || भोजकट देश स्थापना थाप लो | पूजो हजरत पीर मुहमद | सत् फुरै सत् वाचा फुरै | श्री नाथजी के सिंहासन ऊपर पान फूल की पूजा चढ़ै | हमारे आसन पर ऋद्धी सिद्धि धरै, भण्डार भरै | ७ वार, २७ नक्षत्र, ९ गृह, १२ राशि, १५ तिथि | सोम रवि शुक्र शनि बुध गुरु राहु केतु सुख करै दु:ख हरै | खाली वाचा कभी ना पड़ै | ॐ शुक्र मंत्र गायत्री जाप || रक्षा करे श्री शम्भुजती गुरु गोरक्षनाथ || नमो नमः स्वाहा |


शनिदेव हवन

हवन सामग्री - गौघृत तथा शमी की लकड़ी

दिशा - पूर्व, मुद्रा - हंसी, संख्या - ९ बार या १०८ बार

ॐ गुरूजी शनिदेव पांच तत देह का आसन स्थिर | साढ़े सात, बारा सोलह गिन गिन धरे धीर || शशि हर के घर आवे भान | तौ दिन दिन शनिदेव गंगा स्नान || शनिदेव जाति का तेली | कृष्ण कालीक कश्यप गौत्री || सौराष्ट्र क्षेत्र स्थापना थाप लो | लो पूजा हनुमान वीर की करो || सत् फुरै सत् वाचा फुरै | श्री नाथजी के सिंहासन ऊपर पान फूल की पूजा चढ़ै | हमारे आसन पर ऋद्धी सिद्धि धरै, भण्डार भरै | ७ वार, २७ नक्षत्र, ९ गृह, १२ राशि, १५ तिथि | सोम मंगल शुक्र रवि || बुध गुरु राहु केतु सुख करै दु:ख हरै | खाली वाचा कभी ना पड़ै | ॐ शनि मंत्र गायत्री जाप || रक्षा करे श्री शम्भुजती गुरु गोरक्षनाथ || नमो नमः स्वाहा |


राहु ग्रह हवन

हवन सामग्री - गौघृत तथा पलाश की लकड़ी

दिशा - पूर्व, मुद्रा - हंसी, संख्या - ९ बार या १०८ बार

ॐ गुरूजी राहु साधे अरध शरीर | वीर्य का बल बनायें वीर || धुंये की काया निर्मल नीर | येता गुण का राहु वीर|| राहु जाति का शूद्र | कृष्ण काला पैठीनस गौत्र || राठीनापुर क्षेत्र स्थापना थाप लो | लो पूजा करो काल भैरो || सत् फुरै सत् वाचा फुरै | श्री नाथजी के सिंहासन ऊपर पान फूल की पूजा चढ़ै | हमारे आसन पर ऋद्धी सिद्धि धरै, भण्डार भरै | ७ वार, २७ नक्षत्र, ९ गृह, १२ राशि, १५ तिथि | सोम रवि शुक्र शनि | मंगल केतु बुध गुरु सुख करै दु:ख हरै | खाली वाचा कभी ना पड़ै | ॐ राहु मंत्र गायत्री जाप || रक्षा करे श्री शम्भुजती गुरु गोरक्षनाथ || नमो नमः स्वाहा |


केतु ग्रह हवन

हवन सामग्री - गौघृत तथा पलाश की लकड़ी

दिशा - पूर्व, मुद्रा - हंसी, संख्या - ९ बार या १०८ बार

ॐ गुरूजी केतु ग्रह कृष्ण काया | खोजो मन विषय माया || रवि चंद्रा संग साधे | काल केतु याते पावे || केतु जाति का असरु जेमिनी गोत्र काला नुर || अंतरवेद क्षेत्र स्थापना थाप लो | लो पूजा करो रौद्र घोर || सत् फुरै सत वाचा फुरै | श्री नाथजी के सिंहासन ऊपर पान फूल की पूजा चढ़ै | हमारे आसन पर ऋद्धी सिद्धि धरै, भण्डार भरै | ७ वार, २७ नक्षत्र, ९ गृह, १२ राशि, १५ तिथि | सोम रवि शुक्र शनि मंगल बुध राहु गुरु सुख करै दु:ख हरै | खाली वाचा कभी ना पड़ै | केतु मंत्र गायत्री जाप || रक्षा करे श्री शम्भुजती गुरु गोरक्षनाथ || नमो नमः स्वाहा |

Navgraha Havan Mantra